106278570_indian_army_soldiers_participate_in_a_war_exercise_during_a_two-day_know_your_army_exh-xlarge_transt88dj_9pyf8zhmwlwyolqfoeh_hhqoc63wptmyelodu

Image  —  Posted: September 22, 2016 in Veer Ras

Photo post by @muzaffarnagari.

स्रोत: काट कर केक, मार कर फूंक मोमबत्ती मत बुझाइए

काट कर केक, मार कर फूंक मोमबत्ती मत बुझाइए

Image  —  Posted: August 29, 2016 in Veer Ras

आओं सेना संग हुँकार भरे
चल कश्मीर की थाती पर
“रवि” शिव तांडव नृत्य करे
इस जिहाद की छाती पर

सैलाब के वक्त कुकुर जो
भिक्षा को हाथ उठाते हैं
पाकर खाना भीख जान अब
पत्थर सेना को दिखलाते है

तन बेशक से नाम भले “रवि” ये
भिक्षा को हिंदुस्तानी बन जाते हैं
पर मन में पाले भ्रम खुद
पाकिस्तानी झंडे ही फहराते है

कह दो इन गद्दारों से
सेना को ज़ख्म स्वीकार नही
बार लाख भले ही लड़ ले
देंगे हम वीभत्स प्रतिकार यही

केसरिया घाटी में सेना की
रक्षा को अब ये प्रण होगा
याचना नही अब रण होगा
याकि जीवन या मरण होगा।
————-
रवि कुमार “रवि”

यही सोच कर मैंने
कलम की तलवार उठाई है
हिन्दू हित चिंतन के आगे
और भी बड़ी लड़ाई है
कुछ अपने ही गद्दार हुए है
सत्ता सुख की खातिर
अस्तित्व बचाने की है चिंता
हिन्दू सूरज देता डूबता दिखाई है
हर हर महादेव, जय श्री राम कहने से केवल
हिन्दू धर्म का हित न होगा
जब तक हर हिन्दू न जागे
और हिन्दू शौर्य ने लेती अंगड़ाई है
ये सोच कर मैंने
तलवार की कलम उठाई है
हिन्दू हित चिंतन के आगे
और भी बड़ी लड़ाई है
…………..
रवि कुमार “रवि”

संगीनों के साये में यारो आज़ादी चलती है …………..
वक्त उधर ही चलता है जिस और जवानी चलती है …………..
है कौन वो माँ का लाल जो यारो अपने लहू से खेलेगा
रक्तरंजित हाथो से अपनी भारत माँ की किस्मत बदलेगा
चैन चमन में आता है जब बंदूके गरजा करती है
फाड़ के जब दुश्मन का सीना गोली निकला करती है
संगीनों के साये में यारो आज़ादी चलती है …………..
वक्त उधर ही चलता है जिस और जवानी चलती है ……………
…………
रवि कुमार “रवि”

इन्कलाब की धार विचारो की सान पर तेज़ होती है – शहीद भगत सिंह
– इसीलिए मेरे सभी इंकलाबी मित्रो से विनम्र निवेदन है …कृपया वैचारिक क्रांति को बढ़ावा दें ..विचारो का जागरण होने पर व्यक्ति का स्वयं का जागरण हो जाता है ….अच्छा साहित्य पढ़े और दूसरो को भी अच्छा साहित्य पढने को प्रेरित करे ….पुस्तकों से आछा न तो कोई मित्र है और न मार्ग दर्शक …. विचारो की हवा देने का प्रयास करो ….हर भारतवासी का ये कर्त्तव्य है कम से कम दिन में एक व्यक्ति को जागरूक करे …उसे राष्ट्रहित चिंतन करने को कहे…..आप देखेंगे इसके आश्चर्यजनक परिणाम निकलेंगे….आप पाएंगे के आप से साथ चलने वाका व्यक्ति भी येही सोचता है पर खुल कर कह नहीं पाता…हमारे आस पास ही राष्ट्रहित में कार्य करने की अपार सम्भावनाये मोजूद है …उसके लिए न तो कोई धन की आवश्यकता है न किसी मंच की …. आप खुद में एक चलता फिरता विश्वविद्यालय है ऐसा आप पाएंगे….मित्रो लोगो को जागरूक करो हर अच्छे बुरे के विषय में बताओ …यही आपका सच्चा राष्ट्र को दिया जाने वाला सम्मान है ..और यही आपकी सच्ची राष्ट्रभक्ति को अभिव्यक्त करने का माध्यम भी
…………………
रवि कुमार “रवि”

माँ मुझे कुछ पैसे दे दो
में कुरता खादी का सिल्वाऊ
कुरता पहनू बदन पर अपने
गांधी टोपी सर पे मेरे सजाऊ
नित नए में करू घोटाले
कारनामा कुछ ऐसा दिखलाऊ
कलमाड़ी, राजा, लालू जैसा
नेता में बन जाऊ
कभी खाऊ में चारा,
और कभी टू जी में चाट कर जाऊ
देश बेच कर दुश्मन को अपने
नौ लक्खा हार तुझे पहनाऊ
माँ को आया गुस्सा और वो तब बोली
सुने ले मेरे लाल
तेरे जैसे कपूत को पाकर
हो गई में कंगाल
हो गई में कंगाल अब सुनी गोद भी में हो जाऊ
अपने इन्ही हाथो से क्यों न ज़हर तुझे पिलाऊ
अपनी ममता का गला घोंट दू
माँ भारत को मैं पहले बचाऊ
……………
रवि कुमार “रवि”

कल ही देखा कुछ बड़े मीडिया घरानों समां समाचार चैनल पर आईएसआईएस की भारत को दी गई बन्दर घुड़की की काफी चर्चा हो रही है। मेरे अनुसार आईएसआईएस भारत में प्रवेश करके केवल अपने लिए मौत का गढ्ढा ही खोदेगा क्योकि भारत न सीरिया है, न इराक है और न ही पाकिस्तान आईएसआईएस के भारत में प्रवेश करते ही उनका जिनसे सामना होगा ऐसे प्रतिरोधी और प्रतिकार की उन्होने कल्पना भी नहीं की होगी मेरे अनुसार ५ ऐसे प्रतिरोधक भारत में मौजूद है जो स्वयं अपने आप में ही आईएसआईएस जैसे संपोलो का सर कुचलने में सक्षम है ।
——————————–
पहला – भारत के पास १३ लाख की विशाल भारतीय सेना जिसे विगत ३० वर्षों से आतंकवाद का फन कुचलने और ४ युद्ध कुशलता पूर्वक लड़ने का लम्बा अनुभव है और राष्ट्ररक्षा के वक्त पर तो उनका जूनून पागलपन की हद तक पहुंच जाता है। अगर आईएसआईएस अपने बिरादर पाकिस्तान से ही पूछ ले तो उसे ज्ञात होगा की सिख, राजपूत और गोरखा रेजिमेंट किस बला का नाम हैं।
——————————–
दूसरा – राजपूत, सिख, गुर्जर, खटीक, जाट और बाल्मीकी जैसी योद्धा जातिया जिनका इतिहास युद्ध और संहार से भरा हुआ हैl इतिहास साक्षी है इन सभी जातियों ने विशेष कर इस्लामिक आक्रांताओं के दांत ऐसे खट्टे किये की कई वर्षो तक इस्लामिक आक्रांताओं की भारत की देखने तक का भी साहस नहीं हुआ l क्षत्रिय कुलगौरव राजकुमार बाप्पा रावल जी का प्रतिकार इतिहास जनता है जिन्होंने तुर्को, फारसियों को युद्ध में मात दी और अरबी आक्रांताओं को तो अरब तक खदेड़ कर आये इनसे भयभीत होकर अरब ४०० वर्षो तक भारत की और रुख न कर सके।
————————————–
तीसरा – राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ जैसा बड़ा राष्ट्रवादी संगठन जिसके सदस्यों की संख्या ही कई करोड़ में है और जो बचपन से ही राष्ट्र रक्षा को दृढ संकल्पित होते हैं इतनी बडे संगठन का एक प्रतिशत कार्यकर्ता भी यदि खून का जवाब खून से देने को तत्पर हुआ (जो की नैसर्गिक है) तो आईएसआईएस के लोग पानी मांगते नज़र आयेँगे।
————————————
चौथा – भारत में बस्ने वाले शिया, अहमदिया, कादियानी, बरेलवी जैसे मसलकों की कौमे जो जानती है आईएसआईएस का उदय राष्ट्र में उनके धार्मिक हितों को प्रभावित करेगा जब ये प्रतिकार करेंगे निश्चित तौर पर आईएसआईएस को हर मोर्चे पर मात खानी होगी जैसा की इराक में शिया मिलिशिया और कुर्द सफलता पूर्वक आईएसआईएस को न सिर्फ मात दे रहे है बल्कि उनकी धज्जिया भी उड़ा रहे है।
————————————
पांचवा और सबसे अहम – भारत की राष्ट्रीय एकता विश्व जानता है राष्ट्र पर आई आपदा के वक्त सम्पूर्ण भारत एक बंद मुट्ठी में परिवर्तित हो जाता है और अपने मुष्टि प्रहार से किसी भी शत्रु के दांत और जबड़े तोड़ने में सक्षम हो जाता है पाकिस्तान के साथ हुए ४ युद्ध और चीन के साथ हुआ एक युद्ध इसका सबसे बेहतरीन उदहारण है ।
अतः यह बन्दर घुड़की न देते हुए आईएसआईएस अपनी औकात के अनुसार ही पैर पसारे तो उसके लिए श्रेयस्कर होगा।
अपने शब्दों का अंत मैं अल्लामा इकबाल की मशहूर ग़ज़ल की पंक्तियों से करूंगा
“कुछ बात है कि हस्ती, मिटती नहीं हमारी।
सदियों रहा है दुश्मन, दौर-ए-ज़माँ हमारा।”
—————————————-
रवि कुमार “रवि”

12

Image  —  Posted: January 30, 2016 in Veer Ras
Tags: , , , , , , , , , , , , ,