मैं साहित्यकार नही हूँ

Posted: November 20, 2012 in Vyang
Tags: , , , , ,

मैं साहित्यकार नही हूँ
गंभीर शब्दों का जानकार नहीं हूँ
बस हो जाता है जब मन
थोडा भारी, थोडा परेशा सा
मन की भावनाओ को लिख लेता हूँ
अपने आंसू खुद ही पी लेता हूँ
मैं इतना ज्ञानवान नहीं हूँ
मैं कोई साहित्यकार नही हूँ

रोते देखता हूँ
अपनी भारत माँ को
बच्चो को और युवाओ को
खून उतर आता है जब
आँखों में मेरी
तो अपने लहू से भीगे
शब्दों को ही कलम बना लेता हूँ
अपने हाथो से अपने ज़ख्मो
को सी लेता हूँ
पर मैं गुनेहगार नहीं हूँ
में कोई साहित्यकार नहीं हूँ

अक्सर ही जब देखता हूँ
हताश युवा
मुरझाया सा बचपन
सिसकता बुढ़ापा
और दिन बा दिन
बदतर होते हालात मुल्क के
तब अपनी झुन्ज्लाहट को
कागज़ पर निकाल लेता हूँ
खून के घूँट पी लेता हु
मैं कोई इतिहासकार नहीं हूँ
मैं कोई साहित्यकार नही हूँ
………….
रवि कुमार “रवि”

Comments
  1. sunil srivastava says:

    excellent

Leave your comments

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s